बुधवार, 27 मार्च 2019

कालूराम की बीप | सीप में नही मोती

#कालूराम_की_बीप!!!
एक भोत कम पुरानी बात है एक ताऊ कालूराम थे (अब विवाद से बचने को उनका असली नाम नहीं लिख सकता) अब कालूराम ताऊ की एक भोत खराब आदत थी बात बात पर एक ही डायलॉग बोला करते थे...
किसी ने कहा ताऊ राम राम....... जवाब मिलता "अबे का झां¿ की राम राम!
किसी ने कोई चीज़ मांगी...... "झां¿ नहीं देंगे"
किसी ने किसी काम के लिए बोला "नहीं करूंगा का झां¿ उखाड़ लोगे"
कुल जमा उन्ह अपने स्थान विशेष के बालों पर कुछ ज्यादा ही गर्व था हर बात का सुरुं और अंत वहीं से करते...... पूरा गांव उनकी आदत से त्रस्त पर बड़े आदमी थे और बुजुर्ग भी सो कोई कुछ कहता नहीं था.......
हुआ ये के एक बार होली पर गांव के कुछ शरारती लौंडों ने ताऊ की धोती खींच दी और नीचे उन्ने कुछ और पहना नहीं था..... उसके बाद लोगों को ताऊ के झां¿ प्रेम का राज पता चल गया...... दरअसल कालूराम ताऊ के उस स्थान विशेष पर दो-चार बाल ही हुआ करते थे
यहां से कहानी पलट गई कालूराम तो अपनी टैग लाइन बोलना भूल गए पर लौंडों ने उनकी
झां¿ को कहावत बना दिया..…... कोई जैसे थोड़ा समान किसी को दे तो जवाब मिलता "अबे जे का कालूराम जैसी झां¿ दे रहे हो"
किसी के खेत में फसल सही नहीं उगी "रे तेओ बाजरा तो कालूराम की झां¿ जैसो है"
यु नो गांव में कालूराम की झां¿ इंटरनॅशनल फेमस.......
कालूराम ताऊ अब दुनियाँ में नहीं पर उनकी झां¿ जिंदा है अमर हैं....... मेरे को पक्का यकीन है कालूराम ताऊ मरते मरते भी उन लौंडों को मन ही मन गरियाते होंगे जिन्ने होली पर धोती खींची थी उनकी......!
हमारे पड़ोसी पाकिस्तान का भी हाल कालू राम ताऊ वाला था......
भारत कहता कश्मीर.... मेरे कन्ने परमाणु बम है।
भारत कहता आतंकवादी...... परमाणु बम
OIC वालो कर्जा दो...... परमाणु इस्लामी बम है.......
26/11 हुआ मन्नू ने लव लेटर लिखा..... जवाब परमाणु बम है!
फिर मोदी ने भारत की एयरफ़ोर्स को बोला धोती उतारो भोई वाले की....... पाकिस्तान नंगा हुआ.... #न्यूक्लिअर_नंगा!
अब हालात ये है अफगानिस्तान वाले भी मज़ाक उड़ा रहे है "पाकिस्तानियों तुम्हारा न्यूक्लिअर बम भी तुम्हारे जैसा खस्सी है का बे"
OIC से पाकिस्तान कह रहा है कर्जा दो ... तुमको इस्लामिक बम का वास्ता..….. जवाब बत्ती बना ले बे"
कुल जमा पाकिस्तान की न्यूक्लिअर थ्रेट की पोल खुल चुकी है, डर खत्म हो चुका है...... अब हर एक हँसेगा, पेलेगा..... ईरान घर में घुस के ठोंक रहा है, बलोच आंधी काट रहे है, अफगानी मुंह पर मूत रहे हैं..... हम मज़े ले रहे हैं।
पाकिस्तान का वजूद जब तक रहेगा वो 26/2 की तारीख नहीं भूलेगा...... वैसे वजूद भी अब ज्यादा दिन का नहीं !
लेखक : अजय सिंह