गुरुवार, 28 मार्च 2019

बैसाख नंदिनी

#बैसाख_नंदिनी!
आप रास्ते से जा रहे हैं और अचानक आपने देखा एक गधा खड़ा खिलखिला रहा है..... आपकी क्या प्रतिक्रिया होगी..... सायद कहें अरे वाह! गधा भी हस रहा है, या गधे को हँसता देख आप भी खिलखिला उठें, या दुखी हों के बताओ साला हमसे तो जे ही बढ़िया है खुश तो है....... लेकिन अपुन ऐसा नहीं करेंगे अपन मौके का फायदा उठा कर तुरंत गधे के #चार_दांत_उखाड़_लेंगे .....
अगर गधे के दांत का चूरन बना उसका तावीज़ बाँधा जाए तो लौंडिया गारण्टी से पट जाती है...... अब आप कहोगे जे का बात हुई तो भिया बंगाली बाबाओं की फलती फूलती दुकानदारी, निर्मल बाबा के भक्त देख आपको नहीं लगता के हमारा फार्मूला भी चल सकता है......
खैर ये तो शरद जोशी जी की अद्भुत कल्पना का कमाल भर था....
अभी एक खबर सुनी की के दुनियां में गधों की दूसरी सबसे ज्यादा आबादी पाकिस्तान में है.…... वैसे इससे पहले में सोचता था पाकिस्तान पहले नंबर पर होगा.... और अगर दुगोडू गधों को भी गिन लिया जाए तो हम पाकिस्तान को पीछे छोड़ सकते हैं इसकी प्रबल संभावना है... आप गधे को इतना लाइटली लेने की गलती न करें अंग्रेज़ी कल्चर में एक जवान गधे को "jack" और जवान खूबसूरत गधी को "jenny or jennet" कहते हैं किसी और जानवर के ऐसे नामकरण देखे हैं कभी..... अब जिनको गधी के jenny or jennet नाम अजीब लगें उनको गधी को अरब के शांति दूतों की नज़र से देखना चाहिए...... लिल्लाह गधी हूर नज़र आएगी और आसमानी किताब में गधी से इश्क़ हलाल भी हैगा.......!
अरब तो खैर जो हैं सो हइये हैं इन्हां अपने मुलुक में भी गधे कम अज़ीज़ नहीं हमारे UP में तो एक नेता जी को गधे के साथ रह एक भैरण्ट आईडिया आया उन्ने पूरा चुनाव ही गधे के मुद्दे पर लड़ डाला.... अब जनता को नहीं जमा सो नेता जी को इकलत्ती मार कुर्सी से पटक दिया...... तब से नेता जी को गधा छोड़िये घोड़ों से भी नफरत हो गयी उन्होंने सवारी के लिए हथिनी का चुनाव किया..... अब हथिनी उन्ह कब कुचलेगी ये वक़्त बताएगा....!
गधे और घोड़ी के समागम से एक नई नस्ल जन्मती है इसको खच्चर कहते हैं अब ये देखने में थोड़ा घोड़ा भले लगे पर होता नल्ला टाइप गधा ही है.... पर इसको अक्सर गधों के दल की सरदारी मिल जाती है और ये अपने गधे साथियों के साथ बेवजह ढीचुआने का गुण भी रखता है फिर भले उसका ये सोर पूरे गांव को दुखी क्यों न करे.....
अब इस खच्चर की एक बहन भी होती है दर असल जे पूरी पोस्ट उसी का परिचय करवाण खातिर लिखी है अंग्रेजी में उसने कैवें हैं Hinny और देशी ठर्रा भाषा में #खच्चरिया..... अब इस hinny के नाक ओंठ भले घोड़ी जैसे दिखें पर होती गधी ही है...... अब चूंकि हम भारतीय बीवी के डर से डिसकवरी चैनल की जगह चुप चाप एकता कपूर के "कैसी दुल्हन जो पति को डराए" जैसे TV सीरियल देखते हैं तो गधी, घोड़ी, घुड़खर, खच्चर का फ़र्क़ आसानी से नही कर पाते....... तो चैनल मत बदलिए लेकिन फ़र्क़ करना जरूर सीखिए.......
कहीं कल जीवन या देश की महत्वपूर्ण घुड़दौड़ में आप घोड़े के धोखे खच्चर या खच्चरिया पर दांव न खेल जाएं.....!
मेरा उद्देश्य आपको वाइल्ड लाइफ पर थोड़ा जागरूक करना भर है अब इस पोस्ट को कम से कम पप्पू और उसकी भैण के मत जोड़ लेना भाई प्लीज!!!!
लेखक : अजय सिंह