सोमवार, 25 मार्च 2019

एशियाई मुस्लिमो का इतिहास

एशियाई मुसलमानो का इतिहास:-
बहुत से मुस्लिम बड़े गर्व से कहते है कि उन्होंने हिन्दुओ पर 800 साल राज किया है।
पर जिस बात पर उन्हें डूब कर मर जाना चाहिए उसी बात पर ये जाहिल गर्व करते है।
मुगलो ने जिन पर राज किया वो हिन्दू थे और उन पर भी जो आज मुस्लिम बन गए है। तूम कोई सुन्नि मुसलमान नही हो तुम तो वो हो जिन की माँओ ने तलवार के डर से अपने सलवार का नाडा खोल दिया था।
सच्चाई और इतिहास यही बताता है कि जब भी मोहम्मद गौरी, तैमुर लंग,बाबर ने भारत पर कब्जा किया तब उनकी सेना में सिर्फ सिपाही होते थे उनका परिवार नही।
उन सभी ने तुम्हारी औरतो को उठाकर अपने हरम में रखा उन औरतो से जब उनका मन भर जाता तो उन्हें सेना को तोहफों में दे दी जाती थी।
फिर सेना उनको कुत्तो की तरह नोचती खसोटती थी।
इसके बाद जो जगह उन औरतों की होती थी वो थी:- वेश्यालय........
बलात्कार से पैदा हो कर तुम मुसलमान बने हो फिर मुगलो को तुमको इस्तेमाल भी करना था इसलिए तुम्हे नाम दे दिया सुन्नी मुसलमान।
नाजायज या हरामी नाम देते तो तुमको इस्तेमाल कैसे करते.....
उन्हें तो तुम्हे पुश्त दर पुश्त गुलाम बनाये रखना था और लल्ला ओ लकबर चिल्लाते-चिल्लाते तुम्हे जिंदगी भर इस्तेमाल करने के लिए इस्लाम का लेमन चूस दिया हैं तुम्हें.....
वरना मुझे ये बताओ कि वो पैदाइश कहाँ गई जो जान के डर से या मुगलो के बलात्कार से इस्लाम धर्म मे आये.....
तो हरामियों तुम्हारी दादी परदादी और तुम्हारे घर की औरतो ने बलात्कार करवाते करवाते बहुत जिल्लत भरी जिंदगी गुजारी है।
उनको बदनाम करने के लिए हमारा मुँह मत खुलवाया करो।
हमे भी दुःख होता है आखिर कभी तो तुम्हारे पूर्वज भी हिन्दू थे।
हम तो पहले भी हिन्दू थे आज भी हिन्दू है
तो मुगलो ने तुम्हारी माँ बहनो के साथ बलात्कार कर के तुमको गुलाम बनाया कयामत तक के लिए और उनका झंडा फहराने और बांग लगाने का काम दिया है तुमको, तुम्हारे बाप दादा ने गुलामी का पट्टा अपने गले मे डलवा लिया और तुम्हारे घर की औरतों को मुगल अपने हरम तक पहुंचाने में कामयाब हो गए इसलिए तुम मुसलमान हो।
मुगलों ने तुम्हारी माँ बहनो को उठाकर अपने हरम में रखा और कई कई मुगलो ने लगातार बलात्कार किया, जिससे तुम्हारी जैसी नस्ले पैदा हुई जो अपनी चच्ची, खाला,बुआ,बहन,मौसी यहाँ तक कि बेटी से भी सेक्स करना जायज मानती है तुम्हारे जैसी जाहिल और बेगैरत कौम पूरी दुनिया मे कही नही है।
अमरेंद्र भारद्वाज की पोस्ट