गुरुवार, 28 मार्च 2019

चोर की बीप में खूंटा

#चोर_की_बीप_में_खूंटा (दाढ़ी में तिनका पुराना हो लिया नया झेलो)
एक भोत कम पुरानी बात है एक गांव में एक चौधरी रैहया करे था नाम था चौधरी गजोधर सिंह उसका एक ताजा ताजा जवान हुआ लोंडा था सब उसने छोटा चौधरी कहा करे थे......!
एक रात बड़ा चौधरी चद्दर तान के और छोटा चौधरी सपने देखते हुए सो रहे थे के किचन से बर्तन गिरने की आवाज़ आयी..... बड़े और छोटे चौधरी की नींद खुली उन्ने देखा के किचन की खिड़की से एक चोर कूद के बाहर भाग रहा था.... फिर क्या दोनों चौधरी भी पीछे पड़ गए.... चोर आगे चौधरी पीछे..... चोर जिले की सीमा पार कर गया और खड़े होकर चिल्लाया.... अब क्या बिगाड़ लेगा चौधरी इस जिले में थानेदार मेरा यार है.....
चौधरी ने भी पास जा के चोर की गर्दन पकड़ के दे मारा और बोला "रे बावड़ीपूंछ तन्ने इतणा भी न बेरा के थाना कोई सा हो चौधरी हर जगह चौधरी रैवे है"...... और चोर की कुटाई चालू कर दी..... कूटते कूटते दो घंटे बीत लिए दोनों चौधरी भी थक गए......
फिर बड़ा चौधरी छोटे से बोला बेटा कूट तो बहुत लिया इब कुछ ऐसा कर के दोबारा कोई चोर किसी चौधरी के घर घुसने की हिम्मत न करे.....!
छोटे चौधरी ने दो दिन पहले देखी थी फ़िल्म गैंग्स ऑफ वासेपुर उसको रामाधीर सिंह याद आगया.... बोला बापू इसके पिछवाड़े में खूंटा गाड़ अपनी भैंस उससे बाँधूँगा...... #सारे_चोरों_को_सबक_मिलेगा.....!
चौधरी को भी आईडिया जम गया बोला ठीक है ले आ खूंटा.....!
छोटे चौधरी ने खूंटा ला के ठोंकना सुरुं किया पर खूंटा थोड़ा सा ठुकने के बाद बाहर आ जाता....... बड़ा चौधरी चिल्लाया रे लौंडे तू किसी काम का न है तेरे से खूंटा भी न गढ़ रहा
लोंडा बोला बापू गढ़ तो रैहया है पर बार बार उखड़ जावे है........!
बड़ा चौधरी गुस्से से चीखा.... रे बावड़ीगांव अगर खूंटा भीतर न जा रा है तो घर ते खुरपा लाके पहले इसकी गांव खोद गहरी करके फिर खूंटा गाड़.....!
बड़े चौधरी की बात सुन चोर जोर से चीखा..... चौधरी साब जे ज़ुल्म है.... पहले कूटा, फिर खूंटा ठोंका...... अब खुरपा..... कुछ न है तो इत्ता रहम ही कर दो..... खुरपा बजाने की जगह मेरे थैले में तेल की सीसी पड़ी है खूंटे पै तेल लगा के एक बार ट्राय कल्लो....!
...
खैर खूंटा ठुका के नहीं, भैंस बंधी या नहीं ये बाद की बात है....... महत्व पूर्ण ये है के चोर का नाम विजय माल्या था, कुटाई 13000 करोड़ की, और खूंटा अब ठुकेगा
लेखक : अजय सिंह