शुक्रवार, 22 मार्च 2019

जागो हिन्दू आँखे खोलो देखो

क्या आप एक विधानसभा अथवा लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र का नाम बता सकते हैं जिसमें मुस्लिम अथवा ईसाई जनसंख्या 65 प्रतिशत से अधिक हो और वहां से कोई हिन्दू विधायक अथवा सांसद निर्वाचित हुआ हो। यदि अभी भी आप यही मानते है कि भारत एक पंथ निरपेक्ष राष्ट्र है, तो आप अज्ञानता से भरी घोर अन्धकार में जी रहे हैं।

यह एक सूची है लोकसभा में मुस्लिम सांसदों की और उनके निर्वाचन क्षेत्र की
जनसांख्यिकी की
1. हैदराबाद (पुरानी शहर) - 65% मु. - ए ओवैसी
2. बरपेटा (असम) - 70.74% मु. - सिराजुद्दीन अजमल
3. धुवरी (असम) - 79.67% मु. - बदरुद्दीन अजमल
4. अररिया (बिहार) - 56.68% मु. - तरलिमुद्दिन
5. कठिहर (बिहार) - 54.85% मु. - तारीख अनवर
6. खगरिया ( बिहार) - 89.21%मु. - मेहबूब अली कैसर
7. किसनगंज ( बिहार ) - 67.89% मु. - मुहम्मद असरूल हक
8. आनंगंज ( जे .के ) - 97.99% मु. - मेहबूबा मुफ्ति
9. बारामूला ( जे. के) - 95.15% मु. - मुजफ्फर हुसैन बेग
10. श्रीनगर ( जे. के) - 96% मु. - तारीख अहमद कारा
11. मालापुरम ( केरल) - 70.20% मु. - पिके कुंजलिकुट्टी
12. पॉन्ननानी ( केरल) - 59.85% मु. - मुहम्मद बशीर
13. वायानाद ( केरल) - 49.48% हि. - एम आई शाहनवाज़
14. लक्षद्वीप - 96.58% मु. - मुहम्मद फैसला
15. रमनथनपुराम ( तमिल नाडु) - 77.39% हि., 15. 37% मु. - अनवर राजा
16. बसीरहाट - 79.46% हि., 25.82% मु - इदरीस अली
17. बर्दवान - दुर्गापुर (प. बंगाल) - 91.63% हि., 6.34% मु - मुमताज़ संघमित्रा
18. मालदा दक्षिण (प. बंगाल) - 59% मु, अबू हासेम खान
19. मालदा उत्तर (प. बंगाल) - 53% हि., 46% मु, मौसम नूर
20. मुर्शिदाबाद (प.बंगाल) - 66.27% मु. - बद्रुद्दोजा खान
21. रायगंज (प. बंगाल) - 65.13% हि., 34.14% मु. - मोहम्मद सलीम
22. उलूबेरिया (प. बंगाल) - 54.87% हि., 44.79% मु., - सुल्तान अहमद
इस सूची को पढ़कर क्या निष्कर्ष निकाल सकते हैं?
एक मुस्लिम, हिन्दू बहुसंख्यक निर्वाचन क्षेत्र से निर्वाचित हो सकता है, परंतु एक हिन्दू, मुस्लिम बहुसंख्यक निर्वाचन क्षेत्र निर्वाचित नहीं जो सकता.
इस तथ्य को और प्रमाण की आवश्यकता नहीं है कि, वे अपने धर्म को सबसे ऊपर रखते है। यह समय हिंदुओ के लिए की वे इस बारे में सोचे और और अपना मतदान करे, नहीं तो भारत ही अफ़ग़ानिस्तान, पाकिस्तान एवं बांग्लादेश की राह पर निकल पड़ेगा।
सोचों आप कहाँ हो हिंदुओ ?

Binod Pandey की फेसबुक वाल से साभार