शुक्रवार, 29 मार्च 2019

मित्रो आखिर मै निजी तौर पर केजरीवाल से इतनी नफरत क्यों करता हूँ


जब केजरीवाल और अन्ना ने अपना पहला आन्दोलन किया था तब संघ पूरी तरह से उनके साथ था .. असल में अन्ना आन्दोलन की पूरी पटकथा संघ ने लिखी थी ..रामलीला मैदान में खाने पीने आदि का सभी इंतजाम संघ के लोग ही कर रहे थे .. तब केजरीवाल संघ के दरबार में सर झुकाता था .. कुमार विश्वास के पिताजी संघ के पदाधिकारी भी थे और खुद कुमार विश्वास संघ के कार्यक्रमों में आता जाता था .. अहमदाबाद अक्सर आकर कुमार विश्वास मोदी की शान में तुकबन्दी वाली कविताये गाता था .. लेकिन फिर इनके साथ अग्निवेश, मेघा पाटकर जैसे धूर्त जुड़ गये .. असल में न ही अन्ना ने और न ही संघ ने केजरीवाल की हकीकत जानी ..
अन्ना के पहले आन्दोलन में मै खुद उनका साथ दिया था .. दो दिन दिल्ली भी गया था ..
बाद में मुझे कुछ लोगो ने केजरीवाल की पूरी सच्चाई बताई .. और मुझे भी तब अजीब लगा जब अन्ना के मंच से केजरीवाल ने भारत माता की बड़ी सी होर्डिंग हटवा दी .. और ये भी कहा की अब हम वंदेमातरम् नही बोलेंगे सिर्फ भारत माता की जय बोलेंगे ..
उस समय केजरीवाल सहित इस धूर्त गैंग के सभी सदस्य सिर्फ कांग्रेस पर ही हमला करते थे .. ये लोग बीजेपी या मोदी जी का नाम तक नही लेते थे .. उस समय कुमार विश्वास मोदी जी के सम्पर्क में रहता था ..
फिर जब केजरीवाल ने अनशन किया ..तो मैंने उसके खिलाफ खूब लिखा .. खासकर मैंने उसके द्वारा स्टील के गिलास में पानी पीने को लेकर खूब सवाल उठाये .. सोशल मीडिया पर स्टील का गिलास खूब चला .. डाक्टर लोग भी सवाल उठाये की एक डाईबिटिक इन्सान 14 दिनों तक बिना कुछ खाए नही रह सकता .. और तो और अनशन तोड़ते के बाद केजरीवाल ने पुरे तीन घंटे तक लगातार भाषण दिया था ..
फिर मेरी शिकायत कुमार विश्वास और केजरीवाल ने मुख्यमंत्री रहे नरेंद्र मोदी से कर दी ..केजरीवाल ने ये कहा की मोदी जी हम तो आपके साथ है .. हमे तो न चुनाव लड़ना है न राजनीती के पचड़े में न ही राजनीती के कीचड़ में आना है .. हम तो कांग्रेस के खिलाफ माहौल बनाकर आपका काम आसान कर रहे है .. लेकिन आपका चेला जितेन्द्र प्रताप सिंह हमारे बारे में बहुत ख़राब लिखता है .. कृपया उससे कहे की वो हमारे खिलाफ न लिखे .. मोदी जी ने अपने निजी सचिव तन्मय मेहता और मेरे मित्र बड़ोदरा के मेयर भरतभाई डांगर से कहा की जेपी को फोन करके उसे समझाओ ... मैंने मोदी जी के निजी सचिव तन्मय मेहता को साफ़ मना किया की मै आपकी कोई बात नही सुनूंगा .. मुझे इस धूर्त गैंग के बारे में बहुत जानकारी मिली है .. मै इन्हें समाज के सामने नंगा करता रहूँगा .. फिर भरतभाई डांगर का भी फोन आया .. मैंने उन्हें भी प्रेम से मना किया और कहा की मै इस गैंग के खिलाफ लिखता रहूँगा ..
थोड़ी देर बाद तन्मय मेहता का फोन आया .. बोले साहेब बुला रहे है .. मै मोदी जी के पास गया ..वो बहुत गुस्से में थे ..बोले जेपी तुम मेरे निजी सचिव की बात नही माने अपने मित्र भरतभाई की भी बात नही माने ..कुमार विश्वास जी संघ के ही है .. केजरीवाल जी कांग्रेस के खिलाफ माहौल बना रहे है .. ये सब आगे चलकर हमारे ही काम आएगा .. मैंने कहा सर आपको पूरी सच्चाई नही पता .. ये गैंग स्टेप बाई स्टेप चलेगी .. अभी कांग्रेस के खिलाफ बोलेगी .. कुछ महीनों बाद राहुल गाँधी .. फिर बीजेपी और कुछ महीनों बाद ये गैंग आपके खिलाफ भी बोलेगी .. बस आप देखते जाइए ... मोदी जी बोले नही .. ऐसा कभी नही होगा .. मेरी हर रोज विश्वास जी से बात होती है .. मैंने कहा सर मै कोई बीजेपी का सदस्य तक नही हूँ .. न ही आईटी सेल में हूँ ..फिर आप मुझे मना कैसे कर सकते है ? मोदी जी चौककर मुझे देखने लगे .. उन्हें मुझसे ऐसे जबाब की उम्मीद नही थी .. फिर उन्होंने शांति से कहा असल में जेपी चूँकि तुम्हारे कई फोटो मेरे साथ है इसलिए लोगो को भ्रम होता है की तुम वही लिखते हो जो मै चाहता हूँ .. फिर मैंने कहा सर ..मेरा फोन आपके सिक्यूरिटी ने बाहर रखवा दिया है ..आप मेरा फोन मंगा दीजिये मै अभी आपके सामने बैठे बैठे ही आपके साथ मेरे जितने फोटो होंगे सब डिलीट कर दूंगा ..लेकिन मै इनके खिलाफ लिखना नही छोडूंगा ...
फिर मै उठकर चला आया .. और तुरंत ही मोदी जी के साथ के सारे फोटो हटा दिए .. बाद में तन्मय मेहता जी ने कहा जेपी जी आपको क्या हो गया ? मैंने कहा वक्त का इंतजार करिये .. मै साबित कर दूंगा की मै सही हूँ ..
फिर धीरे धीरे इस गैंग ने किसी नाग की तरह केंचुल उतारना शुरू किया .. कुछ ही महीनों बाद ये कांग्रेस और बीजेपी को भूलकर सिर्फ मोदी को गाली देने लगे .. फिर केजरीवाल गुजरात का विकास का पोल खोलने का एलान करते हुए गुजरात आया ..और यहाँ रंडीनाच मचा दिया .. अचानक बोला मै मोदी से बहस करने उनके ऑफिस जाऊंगा ... फिर उसने एक कूड़ादान का फोटो ट्विट करके कहा की ये गुजरात का प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है ..
अगले दिन मैंने मोदी जी के ऑफिस से समय माँगा .. फिर मोदी जी बेहद शांत होकर बोले ..सॉरी जेपी ..मैंने उस दिन तुम्हे नही समझा और इस धूर्त गैंग के बहकावे में आकर तुम्हे ज्यादा बोल दिया .. लेकिन मजे की बात ये की तुम जरा भी घबराए नही .. मेरे सामने बड़े बड़े लोग इस तरह नही बोल पाते जिस तरह से तुमने बोला ..और तुम सच साबित हुए मै गलत ..
फिर मैंने हसते हुए कहा अब तो आपके साथ वाली फोटो फिर से लगा सकता हूँ न .. मोदी जी हंसने लगे ..
इस पूरी घटना के गवाह मेरे मित्र Bharat Dangar    है जो सभी वडोदरा के मेयर है ..
जितेंद्र प्रताप सिंह की फेसबुक वॉल से साभार